कोरोना संक्रमण की स्थिति सामान्य होने पर चारधाम यात्रा शुरू हो सकती है, पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज

देहरादून।

कोरोना संक्रमण की स्थिति सामान्य होने के बाद राज्य सरकार चारधाम यात्रा को चलाने पर विचार कर सकती है। पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने चारों धामों के कपाट खुलने पर श्रद्धालुओं को बधाई देते हुए कहा कि अभी स्थितियां थोड़ी विकट हैं। प्रदेश में कोरोना संक्रमण का मामला थमा नहीं है। ऐसे में अभी फिलहाल चारधाम की यात्रा श्रद्धालुओं के लिए चलाई नहीं जा सकती है। जैसे ही स्थिति सामान्य होती है यात्रा फिर से शुरू की जा सकती है। उत्तराखंड के चारों धामों यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बदरीनाथ धाम के कपाट तय समय पर पूरे विधि विधान के अनुसार खोले जा चुके हैं। 14 मई को यमुनोत्री धाम, 15 मई को गंगोत्री धाम, 17 मई को केदारनाथ धाम और 18 मई को बदरीनाथ धाम के कपाट खोले जा चुके हैं। हालांकि चारों धाम के कपाट खोले जाने के दौरान धामों के रावल और तीर्थ पुरोहित ही मौजूद रहे थे। कपाट खुलने के बाद धामों में सुबह-शाम इनकी मौजूदगी में ही पूजा व्यवस्था को संपन्न कराया जा रहा है। आपको बता दें कि वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को देखते हुए राज्य सरकार ने यह फैसला लिया था कि पिछले साल की तरह इस साल भी चारधाम के कपाट तय समय पर खोले जाएंगे, लेकिन चारधाम की यात्रा स्थगित रहेगी। यही नहीं, राज्य सरकार ने चारधाम के कपाट खोले जाने को लेकर गाइडलाइन भी जारी कर दी थी, जिसके अनुरूप ही चारों धामों के कपाट खोले गए हैं। ऐसे में उम्मीद है कि पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज जो संकेत दे रहे हैं वो सही साबित हो।

Leave a Reply

Next Post

किन्नर अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर सहित कई सदस्यों ने ली जूना अखाड़े के संरक्षक हरिगिरि के शिष्य के रूप में दीक्षा दिलाई

हरिद्वार। किन्नरअखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर सहित कई सदस्यों को जूना अखाड़े के संरक्षक हरिगिरि के शिष्य के रूप में दीक्षा दिलाई गई। दीक्षा का यह कार्यक्रम गोपनीय रखा गया। दीक्षा कार्यक्रम से पहले या बाद में भी किसी को इस अनुष्ठान के विषय में नहीं बताया गया। बता दें कि […]

You May Like

Subscribe US Now