मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने आई.डी.पी.एल ऋषिकेश में डी.आर.डी.ओ. द्वारा स्थापित 500 बेड के अस्थाई कोविड केयर सेंटर का उद्घाटन किया

  • कोविड केयर सेंटर में सभी ऑक्सीजन युक्त बेड की सुविधा

  • -100 आईसीयू बेड की भी है व्यवस्था

  • -ब्लैक फंगस के मरीजों और बच्चों के लिए अलग वार्ड की व्यवस्था

  • -कोविड केयर सेंटर का क्लीनिकल मैनेजमेंट एम्स ऋषिकेश द्वारा किया जायेगा

देहरादून।

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने आई.डी.पी.एल ऋषिकेश में डी.आर.डी.ओ. द्वारा स्थापित 500 बेड के अस्थाई कोविड केयर सेंटर (राइफलमैन जसवंत सिंह रावत, एम.वी.सी) का उद्घाटन किया। मुख्यमंत्री ने कोविड केयर सेंटर की सभी व्यवस्थाओं का निरीक्षण भी किया।

 

आधुनिक सुविधायुक्त इस कोविड केयर सेंटर में सभी बेड ऑक्सीजन युक्त हैं। 100 बेड में आईसीयू की व्यवस्था भी है। इसमें म्यूकरमायोसिस (ब्लैक फंगस) के मरीजों एवं बच्चों के लिए भी अलग से वार्ड बनाये गये हैं। बच्चों के वार्ड में स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए भी आईसोलेशन एरिया बनाया गया है। मात्र 02 सप्ताह में डीआडीओ द्वारा इसे तैयार किया गया है। उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ सरकार दृढ़ता के साथ जंग लड़ रही है। पिछले डेढ़ माह में हमने स्वास्थ्य सुविधाएं दस गुना बेहतर की हैं। इस कोविड केयर सेंटर का क्लीनिकल मैनेजमेंट एम्स ऋषिकेश द्वारा किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने इस कोविड केयर सेंटर की स्थापना के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी एवं रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह का आभार व्यक्त किया।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने उत्तराखंड को विशेष रूप से दो कोविड अस्पताल दिए हैं, जिनमें से ऋषिकेश का कोविड अस्पताल डीआरडीओ ने तैयार कर दिया है, जबकि हल्द्वानी में 500 बेड के कोविड अस्पताल का कार्य गतिमान है। मुख्यमंत्री ने बेहद कम समय में कोविड अस्पताल तैयार करने व सभी सुविधाएं जुटाने के लिए डीआरडीओ के चीफ डॉ. नारायण दास व एम्स ऋषिकेश के निदेशक प्रो. रविकांत का आभार जताया। मुख्यमंत्री ने कहा कि ऋषिकेश के कोविड अस्पताल का नाम 1962 युद्ध के नायक रहे राइफलमैन जसवंत सिंह रावत के नाम पर रखा गया है, जबकि हल्द्वानी में तैयार हो रही है कोविड अस्पताल का नाम पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल बीडी जोशी को समर्पित किया गया है। इससे पूर्व एम्स के कोविड नोडल अधिकारी डॉ. मधुर उनियाल ने मुख्यमंत्री को कोविड अस्पताल से संबंधित जानकारी दी। उन्होंने बताया कि अस्पताल में आक्सीजन युक्त 400 बेड उपलब्ध है, जिनमें से एक क्यूबिकल वर्ल्ड ब्लैक फंगस के रोगियों के लिए तथा एक क्यूबिक वर्ल्ड बच्चों के लिए आरक्षित रखा गया है। जरूरत पड़ने पर इन्हें बढ़ाया जा सकता है। इसके अलावा वेंटिलेटर युक्त 100 बेड का आईसीयू एम्स परिसर में तैयार किया गया है।

इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द अग्रवाल, सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी, मेयर ऋषिकेश अनीता ममगाई, एम्स ऋषिकेश के निदेशक प्रो. रविकान्त, जिलाधिकारी देहरादून डॉ. आशीष श्रीवास्तव, डिप्टी मेडिकल सुप्रिटेंट एम्स ऋषिकेश डॉ. मधुर उनियाल एवं डीआडीओ के अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Next Post

उत्तराखंड में कोरोना के बीच अब डेंगू ने भी दस्तक दी

विभाग की ओर से डेंगू की रोकथाम को लेकर सरकारी और निजी अस्पतालों को दिशा निर्देश जारी किए गए देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना के बीच अब डेंगू ने भी दस्तक दे दी है। जिसको लेकर स्वास्थ्य विभाग चिंतित दिखाई दे रहा है। विभाग की ओर से डेंगू की रोकथाम को […]

You May Like

Subscribe US Now