ईट भट्टे के गड्ढों में डूबने से 3 बच्चों की मौत, तालाब बना था बारिश के पानी से , जानिए

पानी से भरे गड्ढे में डूबकर तीन बच्चों की मौत

उत्तर प्रदेश, नीरज गुप्ता।

जनपद बागपत में एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है। यहां पर एक ईंट भट्ठे की पथेर के लिए जमा किए हुए पानी के कुंड में 3 बच्चों की डूबने से दर्दनाक मौत हो गई। मृतक बच्चे 8 से 15 वर्ष के बीच की आयु वर्ग के हैं। बागपत और बड़ौत पुलिस सूचना पर मौके पर पहुंची, लेकिन परिजन बच्चों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजे जाने का विरोध कर रहे थे।

दरअसल, दिल्ली सहारनपुर हाईवे से बिहारीपुर गांव की ओर जाने वाले रास्ते पर नीरज कुमार का एमबीएफ नाम से एक ईट भट्ठा है। इस ईट भट्ठे के बराबर में ईट पथेर के लिए पानी एक गड्ढे के रूप में जमा किया हुआ था। आसपास के खेतों से और पानी इस गड्ढे में जमा हो गया, जिसके बाद यह एक कुंड का रूप में तब्दील हो गया। आज ईट भट्ठे पर काम करने वाले मजदूरों के बच्चे खेलते खेलते इस कुंड में नहाने के लिए कूद पड़े। भट्ठे पर ही काम करने वाले एक मजदूर के गूंगे लड़के ने ईट भट्ठे पर आकर किसी तरह उन्हें सूचना दी, तब काफी संख्या में मजदूर इकट्ठा कर मौके पर पहुंचे। तीनों बच्चों को किसी तरह बाहर निकाला गया, बड़ौत के निजी अस्पताल में लेकर पहुंचे। इन बच्चों को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

मृत बच्चों में अनिस पुत्र हरबीर उम्र 9 वर्ष निवासी गौरीपुर, सावन पुत्र संजीव उम्र 15 वर्ष, मनु पुत्र पुत्र ओमवीर उम्र 14 वर्ष निवासीगण किरठल शामिल है। सूचना पर बागपत, बड़ौत कोतवाली की पुलिस भी ईट भट्ठे पर पहुंच गई। तीन बच्चों की मौत के बाद ईट भट्ठे पर कोहराम मचा हुआ था। परिजनों का रो रो कर बुरा हाल था परिजन बच्चों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजे जाने का विरोध कर रहे थे।

Leave a Reply

Next Post

जरुरतमंद को खाना खिलाना इस दुनिया का सबसे बड़ा पुण्य:नीरज शर्मा

हरिद्वार। कोरोना महामारी के चलते गरीब लोग दो वक़्त की रोटी के लिए के लिए तरस रहे हैं इसी के चलते कश्यप दल फाउंडेशन के लगातार प्रयास सेे भोजन वितरण का कार्य किया जा रहा है   इस कार्य को आठवें दिन भी जारी रखा। डीएफओ नीरज शर्मा ने आकर कश्यप […]

You May Like

Subscribe US Now