मनरेगा के कर्मचारियों की हड़ताल समाप्त सभी मजदूर लौटे काम पर

कोरोना का असर गांव या शहर सब में नजर आने लगा

हरिद्वार।

कोरोना का असर गांव या शहर सब में नजर आने लगा है। गांव के अधिकतर लोग शहर में कंपनियां, दुकानों पर काम करते हैं। ऐसे में वह बेरोजगार हो गए हैं। अब घर रहकर वह कुछ भी करके परिवार का पेट पालना चाहते हैं। ऐसे में बेरोजगार मनरेगा के तहत काम कर रोजगार करना चाहते हैं। लेकिन इस समय मनरेगा के कर्मचारियों की हड़ताल पर चलते हुए इन लोगों को रोजगार नहीं मिल पा रहा है। मनरेगा में विभिन्न पदों पर कार्यरत मनरेगा के कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर करीब 3 महीने से हड़ताल पर है। यह कर्मचारी ग्रेड पे की मांग और किसी आउटसोर्स कंपनी में किए जाने के विरोध में हड़ताल पर बैठे हैं। वहीं दूसरी और इनकी हड़ताल का असर गांव में दिखने लगा है। मोनिक धवन महानगर अध्यक्ष युवा इंटक ने कहा कि इस समय अधिकतर लोगों के कामकाज ठप पड़े हैं। मामले में बीडीओ और भाजपा सरकार कर्मचारियों से बात करके जल्द ही इस हड़ताल को समाप्त करवाना चाहिए और मनरेगा के तहत लोगों को काम दिए जाने की व्यवस्था बनानी चाहिए। अगर मामले में जल्दी व्यवस्था नहीं बनाई जाती तो महानगर युवा इंटक इसमें अपनी नाराजगी दर्ज करेगा।

Leave a Reply

Next Post

आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि स्कूल संचालक अभिभावकों पर फीस के लिए दबाव ना बनाए

  देहरादून। आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता ने एक बयान जारी कर कहा कि उन्हें कई लोग फोन कर यह शिकायत कर रहे हैं कि बहुत से स्कूल संचालक उन पर फीस जमा करने का दबाव बना रहे हैं जबकि इस आपातकालीन स्थिति में करोना काल के चलते सामान्य […]

Subscribe US Now