उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद ने कोविड के कारण इस बार हाईस्कूल की परीक्षा निरस्त कर छात्र-छात्राओं को अगली कक्षा में प्रमोट करने का निर्णय, प्रमोट करने के लिए मानक, देखिए

उत्तराखंड बोर्ड के 10वीं के छात्र-छात्राओं को प्रमोट करने के लिए मानक तय करने शुरू कर दिए गए हैं। विभागीय सूत्रों के मुताबिक नौवीं में मिले अंकों के आधार पर छात्रों को 10वीं में नंबर दिए जाएंगे। उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद ने स्कूलों से छात्रों की नवीं व दसवीं में आंतरिक मूल्यांकन के अंकों का विवरण मांगा है।

उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षाप परिषदकी ओर से छात्रों को प्रमोट करने के लिए ऑनलाइन मध्यम से कक्षा नवीं की वार्षिक परीक्षा में छात्रों को मिले अंक व उपस्थिति, 10वीं में मासिक परीक्षा में मिले अंकों सहित विभिन्न विषयों की जानकारी मांगी गई है। जिसके आधार पर छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट किया जाएगा।

प्रतियोगी परीक्षाओं की तर्ज पर हो सकती है 12वीं की परीक्षा

उत्तराखंड बोर्ड की 12वीं की परीक्षा बहुविकल्पीय प्रश्नों के आधार (एमसीक्यू) पर कराए जाने को लेकर विचार किया जा रहा है। हाल ही में शिक्षा मंत्री की अध्यक्षता में हुई बैठक में विभागीय अधिकारियों ने कहा कि इससे परीक्षा का समय कम होगा। वहीं रिजल्ट भी जल्द घोषित किया जा सकेगा। परंपरागत तरीके से परीक्षा पर भी चर्चा हुआ, लेकिन कोई अंतिम निर्णय नहीं हो सका। विभागीय मंत्री ने कहा कि जल्द ही बैठक कर परीक्षा को लेकर कोई अंतिम निर्णय लिया जाएगा।

एमसीक्यू के आधार पर परीक्षा हुई तो डेढ़ घंटे का होगा पेपर 

शिक्षा सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम ने कहा कि एमसीक्यू के आधार पर परीक्षा हुई तो तीन के बजाय डेढ़ घंटे का पेपर होगा। इसके अलावा परीक्षा के मूल्यांकन में भी समय की बचत होगी। कंप्यूटराइज्ड रिजल्ट तैयार किया जाएगा, लेकिन इस पर भी विचार किया जा रहा है कि उच्च शिक्षा के दौरान उत्तराखंड बोर्ड के छात्रों को कमतर न आंका जाए। उनका स्तर कमजोर न समझा जाए।

Leave a Reply

Next Post

अखिल भारतीय वैष्णव अखाड़ा परिषद ने योग गुरु बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण को समर्थन दिया

हरिद्वार। अखिल भारतीय वैष्णव अखाड़ा परिषद के पदाधिकारियों ने पतंजलि योगपीठ पहुंचकर आचार्य बालकृष्ण से मुलाकात की। संतों ने योग गुरु बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण के आयुर्वेदिक दवाओं को समर्थन दिया। संतों ने आचार्य बालकृष्ण का शॉल ओढ़ाकर सम्मान भी किया। अखिल भारतीय श्रीपंच निर्वाणी अणि अखाड़ा अध्यक्ष श्रीमहंत […]

You May Like

Subscribe US Now